सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शहर से लेकर गांव तक 'जिम्मेदारी', लड़ेंगे- जीतेंगे

कस्बे के वार्डो से लेकर गाँवों तक कोरोना पर नियंत्रण के प्रयास जारी
विभिन्न थाना क्षेत्रों में पुलिस का फ्लैग मार्च
सैनेटाईजेशन व मेडीकल किटों का वितरण

न्यूज़ चक्र, कोटपूतली। कस्बे से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक क्षेत्रवासी कोरोना वायरस की दूसरी लहर पर नियंत्रण स्थापित करने के लिए पूरी एकजुटता के साथ कार्य कर रहे है। उल्लेखनीय है कि एक ओर जहां राज्य सरकार द्वारा प्रदेश भर में महामारी रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाड़ा संचालित किया जा रहा है। वहीं स्थानीय पुलिस प्रशासन द्वारा एएसपी रामकुमार कस्वां समेत अधिकारीगणों के नेतृत्व में ग्रामीण क्षेत्रों में मेरा गाँव, मेरी जिम्मेदारी व कस्बे में मेरा वार्ड, मेरी जिम्मेदारी अभियान का संचालन कर लोगों को महामारी के संक्रमण से बचाने के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे है। 

इसके तहत विभिन्न ग्राम पंचायतों एवं कस्बे के वार्डो में सैनेटाईजेशन व जन जागरूकता अभियान का संचालन किया जा रहा है। साथ ही घर-घर सर्वे कर लोगों को मेडीकल किटों का वितरण भी किया जा रहा है। पुलिस द्वारा कस्बा समेत विभिन्न थाना क्षेत्रों में फ्लैग मार्च भी निकाले जा रहे है। 

गुरूवार को कस्बे में एएसपी रामकुमार कस्वां समेत डीएसपी दिनेश यादव, थानाधिकारी दिलीप सिंह शेखावत, ईओ फतेह सिंह मीणा व तहसीलदार सूर्यकान्त शर्मा के नेतृत्व में कोटपूतली कस्बे के विभिन्न मार्गो पर फ्लैग मार्च निकाला गया। सरूण्ड थाना पुलिस द्वारा नारेहड़ा, बनेठी, सरूण्ड, कायमपुराबास में फ्लैग मार्च निकालकर क्वारेन्टाईन सैन्टर का निरीक्षण किया गया। 

ग्रामीण क्षेत्र में दिखाई देने लगी जिम्मेदारी

ग्राम पंचायत रामसिंहपुरा में घर- घर जाकर सरपंच विपिन जाखड़ की अगुवाई में सर्वे किया गया। ग्राम चानचकी में आगामी 25 मई को प्रस्तावित एक विवाह रद्द करवाया गया। ग्राम पंचायत कल्याणपुरा खुर्द में सरपंच बादामी देवी द्वारा अल्ट्राटेक वेलफेयर फाउण्डेशन द्वारा उपलब्ध करवाये गये 50 मास्क व 100 पैकेट काढ़े के वितरित किये गये।

ग्राम पंचायत पनियाला में सरपंच लक्ष्मण रावत की अगुवाई में डोर टु डोर सर्वे किया गया। साथ ही एक बाल विवाह को भी रोका गया। 
ग्राम खेडक़ी मुक्कड़ व बींजाहेड़ा में आंगनबाडी कार्यकर्ताओं द्वारा सर्वे कर मेडीकल किटों का वितरण किया गया। इसी प्रकार पूतली में पीईईओ महेश यादव द्वारा सर्वे करते हुए मेडीकल किटों का वितरण किया गया। 

ग्राम बखराना, पूरणनगर, केशवाना राजपूत, देवता, सांगटेडा, खड़ब, खेड़ा निहालपुरा, भालोजी, मोलाहेड़ा, रायकरणपुरा व बामनवास आदि में भी आंगनबाड़ी एएनएम आदि टीम के सदस्यों ने घर-घर सर्वे कर मेडीकल किटों का वितरण किया। ग्राम पंचायत सांगटेडा में सरपंच सोनू चौधरी की अगुवाई में हाईपोक्लोराईड का छीडक़ाव कर जगह-जगह सैनेटाईजेशन किया गया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दुल्हन जब किसी घर की दहलीज में प्रवेश करती है...

याद रखिए शादी के बाद लड़कियों को अपना पीहर छोड़कर ससुराल में रचना बसना होता है, सो लड़कों से ज्यादा जिंदगी उनकी बदलती है। दोस्तों, ब्लॉगवाणी में  आप सभी का स्वागत है। मैं हूं आपकी दोस्त शालू वर्मा। दोस्तों, शादी विवाह का सीजन है, रस्मों रिवाजों का महीना है, तो आइए आज बात कर लेते हैं दुल्हन की। उस दुल्हन की जो पूरे आयोजन की धुरी होती है। उस दुल्हन की जिसकी तस्वीर दीप की लौ से मिलती-जुलती है। जैसे मंदिर में दीप रखा जाता है, वैसे ही घर में दुल्हन आती है। मंदिर सजा हो तो दीप से रोनक दोगुनी हो जाती है‌। वाकई हैरानी की बात है लेकिन सच है शादी का वास्ता केवल दुल्हन से ही जोड़ कर देखा जाता है। शादी केवल एक आयोजन है जिसमें ढेर सारे लोग शामिल होते हैं दुल्हन की अपनी रीत होती है बहुत सारे कार्यक्रम, रश्में और धूम होती है, लेकिन जिनमें दुल्हन शामिल हो। दिलचस्प केवल उन्हें ही माना जाता है या यूं कहें कि जिक्र केवल उन्हीं का होता है। जिक्र होता भी केवल दुल्हन का ही है, दूल्हे को लड़का कहकर बुलाया जाता है और लड़के का व्यक्तित्व बहुत हद तक उसकी नौकरी से और कुछ हद तक उसके रूप से आंक लिया जात

दिल है कि मानता नहीं !!

- Vikas Verma जी हां, दिल का मामला ही कुछ ऐसा होता है, जिस काम को करने के लिए मना किया जाता है, जब तक उसे कर ना ले, चैन पड़ता ही नहीं है। ‘कहीं लिखा हुआ है कि - दीवार के पार देखना मना हैै।’...तो हम तो देखेगें, नहीं तो दिल को सुकुन नहीं मिलेगा। कहीं लिखा है कि यहां थूकना मना है, तो हम तो थूकेगें, क्योंकि इसी में दिल की रजा़ है, इसी में मजा़ है और इसी में शान है, अभिमान है !! अब देखो ना, ‘सरकार’ कह रही है, सब कह रहे हैं। रेडियो, अखबार, टीवी सब यही कह रहे हैं, कोरोना महामारी है ! मास्क लगाओ, दूरी बनाओ ! पर हम तो ना मास्क लगाएगें, ना हाथों पर सैनेटाईजर लगाएगें और ना सोशल डिस्टेंस बनानी है ! क्यों करें, आखिर मरना तो एक दिन सबको है ! मौत लिखी होगी तो मर जाएगें, नहीं तो क्या करेगा कोरोना !! ...और फिर कोरोना यहां थोड़ी ना है, वो तो वहीं तक है। अगर कोरोना इतना ही खतरनाक होता तो डाॅक्टर, कम्पाउण्डर, पुलिस और ये प्रेस वाले ऐसे ही थोड़ी ना घूमते। इनको भी तो जान प्यारी होगी। ...और फिर जब ये ही नहीं डरते, तो मैं क्यों डरूं ? मेरा दिल इतना कमजोर थोड़ी ना है !! कोटपूतली में मिल रहे लगातार कोरोना

Meaning of love...चल प्यार करें...

चैटिंग से सिर्फ सैटिंग होती है, प्यार नहीं। क्योंकि प्यार में फीलिंग होती है, इमोसंस होते हैं, दर्द होता है, चाहत होती है। ...और प्यार दिल से होता है !! चल प्यार करें... प्यार यानी Love  , आज इस शब्द के मायने क्या हैं? क्या प्यार का अर्थ (Meaning of love) वर्तमान में देह की चाहत, भूख, या हवस बन गया है ? अग़र नहीं, तो फिर ‘सुशांत’ जैसे नौजवान ‘शांत’ क्यों हो रहे हैं? क्यों ‘जिस्म’ में दौड़ता खून अपना रंग नहीं पहचान पा रहा है ? क्यों रिश्तों की डोर में ‘प्यार’ उलझता जा रहा है ?....अगर इन सब सवालों के जवाब आपके पास हैं तो बेशक आप इस आर्टिकल को बिना पढ़े यहीं छोड़ सकते हैं, लेकिन अग़र आपको इन सवालों का जवाब नहीं सूझ रहा है तो आपको यह आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। ...क्योंकि अखबारों में छपने वाली खबरें या कहानी ‘आपके घर की भी हो सकती है।’ चलिए अब इस Article  की शुरूआत करते हैं। 👀 केस -1. रविना की शादी को दो साल ही हुए थे, या यूं कहें कि जैसे तैसे रविना ने गुटखाबाज पति के साथ दो साल निकाल दिए थे। पति में सिवाय गुटखा खाने के कोई ऐब नहीं था। लेकिन रविना को शादी से पहले यह बात किसी ने नहीं बताई। ब्या

कृपया फोलो/ Follow करें।

कुल पेज दृश्य