सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोटपूतली: कल्याणपुरा खुर्द में प्रतिभाओं को किया सम्मानित



प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन

कोटपूतली। निकटवर्ती ग्राम कल्याणपुरा खुर्द स्थित राजकीय माध्यमिक विधालय में आदर्श ग्राम कल्याणपुरा खुर्द की प्रतिभाओं को सरपंच श्रीमती बादामी देवी की ओर से सम्मानित किया गया। इनमें आरपीएससी द्वारा व्याख्याता चयनित राधेश्याम कसाना, मनोज कसाना, चन्द्रप्रभा मीणा, वरिष्ठ अध्यापक मनोज कसाना, राजू ग्रेट, मंजू मीणा, पशुधन सहायक अनिल कुमार बावता, किरण कसाना, कमल गुर्जर, नरेश गुर्जर, राजस्थान पुलिस एसआई राजेन्द्र कुमावत, लोको पायलट विकास कसाना, नीट चयनित इन्दू कसाना, पीवीटी गुंजन कसाना व इंस्पायर अवॉर्ड प्राप्त करने वाली प्रतिभा अभिलाषा बावता, नचिता कसाना व प्रियंका कसाना को स्मृति चिन्ह भेंटकर स्वागत व अभिनन्दन किया गया।



इस मौके पर सरपंच ने विधालय में स्वयं की ओर से 20 कुर्सी व 5 टेबल भी भेंट की। इस दौरान प्रधानाचार्य राजबाला यादव समेत बीरबल, रामनिवास मीणा, सरपंच प्रतिनिधि घीसाराम हवलदार, छीत्तरमल, पूर्व सरपंच गुरूदयाल, पूर्व सरपंच सांवतराम, दाताराम पंच, प्रो. जगराम कसाना, पूरण भगतजी, हनुमान पीटीआई, शिवराम, डॉ. मालीराम गुर्जर, रामौतार गुर्जर, ओमप्रकाश अध्यापक, अमरसिंह, बजरंग, योगेश उप सरपंच, कृष्ण कसाना, जयसिंह अध्यापक, महेश मास्टर, महेश कसाना, रत्तिराम, दिल्ली पुलिस एएसआई यादराम कसाना व विक्की कसाना समेत बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजुद थे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

#जीवन आनन्द: अतीत अवसाद बढ़ाता है और वर्तमान अवसर पैदा करता है

Vikas Kumar Verma  नमस्कार दोस्तों, ब्लाॅगवाणी पर #जीवन_आनन्द काॅलम में आप सभी का स्वागत है। मैं हूं आपके साथ विकास वर्मा। दोस्तों, जीवन में जब अतीत के पन्ने पलटे जाते हैं तो प्रेम कम और अवसाद ज्यादा पनपता है। यानी कि कई बार हम 8-10 साल पुरानी यादों की गठरी ढ़ोते रहते हैं, इस उम्मीद के साथ कि सामने वाले के अंहकार पर एक दिन जरूर चोट पहुंचेगी। लेकिन असल में हम अपने ही अंहकार को ढ़ो रहे होते हैं। क्योंकि असल में तो वर्तमान में जीने का नाम ही जिंदगी हैं, क्योंकि अतीत अवसाद बढ़ाता है और वर्तमान अवसर पैदा करता है। आईए, आज ब्लागवाणी के जीवन आनन्द के इस अंक में अतीत कि किताब को बंदकर आज की रोशनी में अवसर की राह तलाशें... दोस्तों, जीवन में जब अवसाद पनपनता है तो मन टूटने लगता है, अंधेरे कमरे में बैठना और एकांत अच्छा लगने लगता हैं। क्योंकि हम भूल जाते हैं कि जीवन केवल पेड़ नहीं है. जीवन गहरी छाया भी है. पेड़, जितना अपने लिए है, उतना ही दूसरे के लिए! हमारे सुख-दुख आपस में मिले हुए हैं. इनको अलग करते ही संकट बढ़ता है! जबकि इसे समझते ही सारे संकट आसानी से छोटे होते जाते हैं. सुलझते जाते हैं. लेकिन हम औ

प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए अगस्त माह की जनरल नॉलेज..

नमस्कार दोस्तों मैं हूं आपकी दोस्त शालू वर्मा, ब्लॉगवाणी में आपका स्वागत है । दोस्तों, आज ब्लॉगवाणी में मैं आपको अगस्त माह की जनरल नॉलेज से अवगत करवाऊंगी, जो कि आपको प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगी । दोस्तों, मैंने यह करंट GK विभिन्न अखबारों  व पत्र- पत्रिकाओं से लेकर के तैयार की है, उम्मीद है आपको पसंद आएगी । आपको मेरा यह प्रयास अच्छा लगे तो मुझे कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं अपने सुझाव भी रखें, ब्लॉग को फॉलो करें और इसे दूसरों के साथ शेयर जरूर करें...Thanks. अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस-   12 अगस्त आज के युवाओं के आस-पास सांस्कृतिक और कानूनी मुद्दों के एक निर्धारित चैट पर ध्यान आकर्षित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस दिवस को मनाने की शुरुआत की गई । हिंदू प्लेराइट अवार्ड 2018 किस भारतीय लेखक ने जीता है ? जवाब है - एनी जैदी भारतीय लेखक एनी जैदी ने कोरोमंडल में जय हिंदू थिएटर फेस्ट के 14 वें संस्करण में अपने नाटक  अनटाइटलड के लिए 2018 हिंदू प्लेराइट पुरस्कार 2018 जीता है । हाल ही में किस भारतीय प्राधिकरण ने RUCO पहल  शुरू की है ?

पर्यावरण से बदलता जीवन...

नमस्कार दोस्तों, ब्लॉगवाणी पर आपका स्वागत है। दोस्तों, आज हम बात करेंगे वर्षा ऋतु की, यानी कि बरसात की, बरसात से बदलते पर्यावरण की और पर्यावरण से बदलते जीवन की। जी हां दोस्तों, जुलाई का महीना है, आकाश में नीली , काली, सफेद घटाएं और उनके बीच कड़कती बिजली और कभी मध्यम तो कभी तेज बरसती बरसात की फुहारें मन को आनंदित कर देती हैं। दोस्तों, बरसात के मौसम में हमारा तन मन तो आनंदित होता ही है, साथ ही पशु-पक्षी, पेड़-पौधे, जीव-जंतु, देखा जाए तो सभी के लिए यह मौसम खुशियां लेकर आता है।अगर मैं यह कहूं कि " प्यासी धरा भी बरसात का पानी पीकर हरियाली पेड़ पौधों और फूलों से महकने लगती है" तो गलत नहीं होगा। सूखे तालाब और नदियों में पानी की आवक से संगीत की तरंगे उठने लगती हैं।  ---तो दोस्तों क्यों ना हम ऐसे सुंदर मौसम में एक कदम पर्यावरण संरक्षण के लिए बढ़ालें, क्योंकि पर्यावरण संरक्षण हम सब की जिम्मेदारी भी है और ज़रूरत भी और फिर बरसात का मौसम तो वृक्षारोपण के लिए बहुत ही उपयुक्त होता है, तो क्यों ना हम में से प्रत्येक अपने कल की खुशहाली के लिए एक पौधा जरुर लगाएं। पौधारोपण से धरती प

कृपया फोलो/ Follow करें।

कुल पेज दृश्य