सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

व्यावसायिक गतिविधियां आर्थिक विकास में सहयोगी – यादव

  •  राज्यमंत्री यादव ने व्यायाम शाला (जिम) व निजी होटल का किया उद्घाटन
  • कांग्रेस कार्यालय पर की नियमित जनसुनवाई

न्यूज चक्र, कोटपूतली। क्षेत्रीय विधायक व राज्यमंत्री राजेन्द्र सिंह यादव ने कस्बे की गढ़ कॉलोनी में नवनिर्मित व्यायाम शाला जिम का फिता काटकर उद्घाटन किया। उन्होंने आधुनिक सुविधाओं से युक्त जिम में लगी मशीनों का भी शुभारम्भ किया।



यादव ने कहा कि आधुनिक जिम से युवाओं को काफी लाभ होगा। उन्होंने जिम संचालक ओमवीर कुमावत को बधाई भी दी। वहीं युवा कांग्रेस नेता भीम पटेल ने भी विचार व्यक्त किये। आयोजकों की ओर से अतिथियों का स्वागत किया गया। इस दौरान विहिप जिलाध्यक्ष पूरणमल भरगड़, राजेन्द्र हिन्दू, सतवीर पायला, अमरसिंह सैनी, दिनेश सैनी, शिवकुमार मीणा, कमल यादव, कर्मवीर कुमावत, बद्रीप्रसाद कुमावत, कमलेश प्रजापत समेत अन्य मौजुद थे। read also: Kotputli: प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को किया सम्मानित



इसी प्रकार लक्ष्मी नगर मोड़ पर नवनिर्मित होटल राधा रानी व रेस्टोरेंट का भी राज्यमंत्री ने फिता काटकर उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रकार की व्यावसायिक गतिविधियां क्षेत्र के आर्थिक विकास में सहयोगी है। पूर्व पार्षद भीखाराम सैनी, सुरेन्द्र सैनी, रमेश चंद सैनी समेत अन्य ने राज्यमंत्री का माला व साफा पहनाकर स्वागत किया। इस दौरान ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष छीत्तरमल सैनी, विराट यादव समेत अन्य मौजुद रहे। read also: #जीवन आनन्द: अतीत अवसाद बढ़ाता है और वर्तमान अवसर पैदा करता है

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दुल्हन जब किसी घर की दहलीज में प्रवेश करती है...

याद रखिए शादी के बाद लड़कियों को अपना पीहर छोड़कर ससुराल में रचना बसना होता है, सो लड़कों से ज्यादा जिंदगी उनकी बदलती है। दोस्तों, ब्लॉगवाणी में  आप सभी का स्वागत है। मैं हूं आपकी दोस्त शालू वर्मा। दोस्तों, शादी विवाह का सीजन है, रस्मों रिवाजों का महीना है, तो आइए आज बात कर लेते हैं दुल्हन की। उस दुल्हन की जो पूरे आयोजन की धुरी होती है। उस दुल्हन की जिसकी तस्वीर दीप की लौ से मिलती-जुलती है। जैसे मंदिर में दीप रखा जाता है, वैसे ही घर में दुल्हन आती है। मंदिर सजा हो तो दीप से रोनक दोगुनी हो जाती है‌। वाकई हैरानी की बात है लेकिन सच है शादी का वास्ता केवल दुल्हन से ही जोड़ कर देखा जाता है। शादी केवल एक आयोजन है जिसमें ढेर सारे लोग शामिल होते हैं दुल्हन की अपनी रीत होती है बहुत सारे कार्यक्रम, रश्में और धूम होती है, लेकिन जिनमें दुल्हन शामिल हो। दिलचस्प केवल उन्हें ही माना जाता है या यूं कहें कि जिक्र केवल उन्हीं का होता है। जिक्र होता भी केवल दुल्हन का ही है, दूल्हे को लड़का कहकर बुलाया जाता है और लड़के का व्यक्तित्व बहुत हद तक उसकी नौकरी से और कुछ हद तक उसके रूप से आंक लिया जात

Meaning of love...चल प्यार करें...

चैटिंग से सिर्फ सैटिंग होती है, प्यार नहीं। क्योंकि प्यार में फीलिंग होती है, इमोसंस होते हैं, दर्द होता है, चाहत होती है। ...और प्यार दिल से होता है !! चल प्यार करें... प्यार यानी Love  , आज इस शब्द के मायने क्या हैं? क्या प्यार का अर्थ (Meaning of love) वर्तमान में देह की चाहत, भूख, या हवस बन गया है ? अग़र नहीं, तो फिर ‘सुशांत’ जैसे नौजवान ‘शांत’ क्यों हो रहे हैं? क्यों ‘जिस्म’ में दौड़ता खून अपना रंग नहीं पहचान पा रहा है ? क्यों रिश्तों की डोर में ‘प्यार’ उलझता जा रहा है ?....अगर इन सब सवालों के जवाब आपके पास हैं तो बेशक आप इस आर्टिकल को बिना पढ़े यहीं छोड़ सकते हैं, लेकिन अग़र आपको इन सवालों का जवाब नहीं सूझ रहा है तो आपको यह आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। ...क्योंकि अखबारों में छपने वाली खबरें या कहानी ‘आपके घर की भी हो सकती है।’ चलिए अब इस Article  की शुरूआत करते हैं। 👀 केस -1. रविना की शादी को दो साल ही हुए थे, या यूं कहें कि जैसे तैसे रविना ने गुटखाबाज पति के साथ दो साल निकाल दिए थे। पति में सिवाय गुटखा खाने के कोई ऐब नहीं था। लेकिन रविना को शादी से पहले यह बात किसी ने नहीं बताई। ब्या

रिद्धि सिद्धि व बुद्धि के दाता हैं गणेश जी

विघ्न हरण मंगल करन गणनायक गणराज । रिद्धि शिद्धि सहित पधारजो पूर्ण करजो काज…. दोस्तों नमस्कार, ब्लॉगवाणी में आप सभी का स्वागत है... दोस्तों, किसी भी कार्य के शुभारंभ से पहले सर्वप्रथम गणेशजी की पूजा करके शुरुआत की जाती है। विघ्‍नहर्ता गणपति भगवान को पूजनीय माना जाता है…. भगवान गणेश का महापर्व गणेश चतुर्थी देश भर में आज धूमधाम से मनाया जा रहा है... गणपति बप्पा आज घर घर में विराजएंगे.. ... भगवान गणेश को ज्ञान, बुद्धि और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। भगवान गणेश को गजानन, गजदंत, गजमुख जैसे नामों से भी जाना जाता है। हर साल गणेश चतुर्थी का पर्व भगवान गणेश के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। गणेश चतुर्थी का पर्व हर साल हिन्दू पंचाग के भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। भगवान गणेश की मूर्ति स्थापति कर अगले 10 दिन तक गणेश उत्सव मनाया जाता है।   इस दिन लोग मिट्टी से बनी भगवान गणेश की मूर्तियां अपने घरों में स्थापित करते हैं। गणेश चतुर्थी का उत्सव मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा से शुरू होता है। पूजा के दौरान भगवान गणेश के पसंदीदा लड्डू का भोग लगाया जाता है। इसमें मोद

कृपया फोलो/ Follow करें।

कुल पेज दृश्य