सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मोदी जी, संविधान में करो संशोधन ऐसा... कि बलात्कारियों का भी बलात्कार हो जाए

दोस्तों नमस्कार,  ब्लॉगवाणी पर मैं शालू आपका स्वागत करती हूं। दोस्तों, कल रात मैं पुराने अखबारों को एक-एक कर देख रही थी,  छांट रही थी कबाड़ी को रद्दी देने के लिए।  इस दौरान जिस भी दिनांक का अखबार मेरे हाथ में आता गया ....कमोबेश सभी में... 3- 4 खबरें बलात्कार और महिला उत्पीड़न की थी। इनमें से कई खबरें तो अखबार के मेन पेज, व आखिरी पेज पर थी। ... देख- देख कर कलेजा बैठ सा गया।... क्या हो गया है देश को। क्या हैवानियत... दरिंदगी और हवस ही बस गई है मेरे देश के पुरुषों में !?  छी... धिक्कार है... घिन्न आती है मुझे उन लोगों पर भी... जो नारी को 'पूजनीय' बताने की बात करते हैं,  और ऐसी घटनाओं पर उनके मुंह पर डर की पट्टी बंधी रहती है। 
वैसे भी नारी कब थी पूजनीय! 'अपनी मां' के चरण स्पर्श कर लेने से नारी पूजनीय सार्थक नहीं हो जाता। ... अखबार समाचार चीख रहे हैं... 6 महीने की मासूम तक को नहीं बख्श रहे हैं दरिंदे... उफ...कहते और बात करते भी कलेजा बैठता हैं।
देश के प्रधानमंत्री 'बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ' की बात करते हैं... लेकिन बेटियां ना कोख में बच रही हैं ना देश में।  याद होगा आपको दिल्ली का 'निर्भया कांड'। खूब मोमबत्तियां जलाई थी और खूब कसमें खाई थी... बहन बेटियों को सम्मान दिलाने के लिए।  लेकिन हो क्या रहा है... घर, स्कूल, आश्रम,  मंदिर... ऐसी कोई जगह नहीं जो सुरक्षित रह गई हो। यहां तक कि चलती बस, अॉटो, ट्रेन... सब हैवानियत और दरिंदगी की गवाह बनती जा रही हैं। 
अब तो बस देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से एक ही अपील है...

कि मोदी जी, नारी सम्मान में ऐसा उपहार हो जाए
बलात्कारियों का भी बलात्कार हो जाए
करो संविधान में कोई संशोधन ऐसा
कि पीड़िता को मिले हक... सजा देने का
दुष्कर्मी के अंग भंग करने की... 
पीड़िता हकदार हो जाए
करो संविधान में कोई संशोधन ऐसा
बलात्कारियों का भी बलात्कार हो जाए।

दोस्तों,  मेरे यह लेख केवल लेख नहीं है पीड़ा है... इसलिए आपसे करबद्ध निवेदन है कि इसे केवल पढ़े ही नहीं बल्कि, इसे इतना शेयर करें अपने सभी  WhatsApp  व फेसबुक ग्रुप्स में कि यह पीड़ा देश के संविधान निर्माताओं,  योजनाकारों और देश की संसद में बैठे देश के कर्णधारों तक पहुंचे।... बाकी आज के लेख में मैं कुछ नहीं कहना चाहती... मन दुखी है.... अगले अंक में एक नए विषय के साथ आपसे फिर मिलूंगी.... इंतजार कीजिएगा ....नमस्कार।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दुल्हन जब किसी घर की दहलीज में प्रवेश करती है...

याद रखिए शादी के बाद लड़कियों को अपना पीहर छोड़कर ससुराल में रचना बसना होता है, सो लड़कों से ज्यादा जिंदगी उनकी बदलती है। दोस्तों, ब्लॉगवाणी में  आप सभी का स्वागत है। मैं हूं आपकी दोस्त शालू वर्मा। दोस्तों, शादी विवाह का सीजन है, रस्मों रिवाजों का महीना है, तो आइए आज बात कर लेते हैं दुल्हन की। उस दुल्हन की जो पूरे आयोजन की धुरी होती है। उस दुल्हन की जिसकी तस्वीर दीप की लौ से मिलती-जुलती है। जैसे मंदिर में दीप रखा जाता है, वैसे ही घर में दुल्हन आती है। मंदिर सजा हो तो दीप से रोनक दोगुनी हो जाती है‌। वाकई हैरानी की बात है लेकिन सच है शादी का वास्ता केवल दुल्हन से ही जोड़ कर देखा जाता है। शादी केवल एक आयोजन है जिसमें ढेर सारे लोग शामिल होते हैं दुल्हन की अपनी रीत होती है बहुत सारे कार्यक्रम, रश्में और धूम होती है, लेकिन जिनमें दुल्हन शामिल हो। दिलचस्प केवल उन्हें ही माना जाता है या यूं कहें कि जिक्र केवल उन्हीं का होता है। जिक्र होता भी केवल दुल्हन का ही है, दूल्हे को लड़का कहकर बुलाया जाता है और लड़के का व्यक्तित्व बहुत हद तक उसकी नौकरी से और कुछ हद तक उसके रूप से आंक लिया जात

Meaning of love...चल प्यार करें...

चैटिंग से सिर्फ सैटिंग होती है, प्यार नहीं। क्योंकि प्यार में फीलिंग होती है, इमोसंस होते हैं, दर्द होता है, चाहत होती है। ...और प्यार दिल से होता है !! चल प्यार करें... प्यार यानी Love  , आज इस शब्द के मायने क्या हैं? क्या प्यार का अर्थ (Meaning of love) वर्तमान में देह की चाहत, भूख, या हवस बन गया है ? अग़र नहीं, तो फिर ‘सुशांत’ जैसे नौजवान ‘शांत’ क्यों हो रहे हैं? क्यों ‘जिस्म’ में दौड़ता खून अपना रंग नहीं पहचान पा रहा है ? क्यों रिश्तों की डोर में ‘प्यार’ उलझता जा रहा है ?....अगर इन सब सवालों के जवाब आपके पास हैं तो बेशक आप इस आर्टिकल को बिना पढ़े यहीं छोड़ सकते हैं, लेकिन अग़र आपको इन सवालों का जवाब नहीं सूझ रहा है तो आपको यह आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। ...क्योंकि अखबारों में छपने वाली खबरें या कहानी ‘आपके घर की भी हो सकती है।’ चलिए अब इस Article  की शुरूआत करते हैं। 👀 केस -1. रविना की शादी को दो साल ही हुए थे, या यूं कहें कि जैसे तैसे रविना ने गुटखाबाज पति के साथ दो साल निकाल दिए थे। पति में सिवाय गुटखा खाने के कोई ऐब नहीं था। लेकिन रविना को शादी से पहले यह बात किसी ने नहीं बताई। ब्या

रिद्धि सिद्धि व बुद्धि के दाता हैं गणेश जी

विघ्न हरण मंगल करन गणनायक गणराज । रिद्धि शिद्धि सहित पधारजो पूर्ण करजो काज…. दोस्तों नमस्कार, ब्लॉगवाणी में आप सभी का स्वागत है... दोस्तों, किसी भी कार्य के शुभारंभ से पहले सर्वप्रथम गणेशजी की पूजा करके शुरुआत की जाती है। विघ्‍नहर्ता गणपति भगवान को पूजनीय माना जाता है…. भगवान गणेश का महापर्व गणेश चतुर्थी देश भर में आज धूमधाम से मनाया जा रहा है... गणपति बप्पा आज घर घर में विराजएंगे.. ... भगवान गणेश को ज्ञान, बुद्धि और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। भगवान गणेश को गजानन, गजदंत, गजमुख जैसे नामों से भी जाना जाता है। हर साल गणेश चतुर्थी का पर्व भगवान गणेश के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। गणेश चतुर्थी का पर्व हर साल हिन्दू पंचाग के भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। भगवान गणेश की मूर्ति स्थापति कर अगले 10 दिन तक गणेश उत्सव मनाया जाता है।   इस दिन लोग मिट्टी से बनी भगवान गणेश की मूर्तियां अपने घरों में स्थापित करते हैं। गणेश चतुर्थी का उत्सव मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा से शुरू होता है। पूजा के दौरान भगवान गणेश के पसंदीदा लड्डू का भोग लगाया जाता है। इसमें मोद

कृपया फोलो/ Follow करें।

कुल पेज दृश्य