सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दुल्हन जब किसी घर की दहलीज में प्रवेश करती है...

याद रखिए शादी के बाद लड़कियों को अपना पीहर छोड़कर ससुराल में रचना बसना होता है, सो लड़कों से ज्यादा जिंदगी उनकी बदलती है।

दोस्तों, ब्लॉगवाणी में 
आप सभी का स्वागत है। मैं हूं आपकी दोस्त शालू वर्मा। दोस्तों, शादी विवाह का सीजन है, रस्मों रिवाजों का महीना है, तो आइए आज बात कर लेते हैं दुल्हन की। उस दुल्हन की जो पूरे आयोजन की धुरी होती है। उस दुल्हन की जिसकी तस्वीर दीप की लौ से मिलती-जुलती है। जैसे मंदिर में दीप रखा जाता है, वैसे ही घर में दुल्हन आती है। मंदिर सजा हो तो दीप से रोनक दोगुनी हो जाती है‌।
वाकई हैरानी की बात है लेकिन सच है शादी का वास्ता केवल दुल्हन से ही जोड़ कर देखा जाता है। शादी केवल एक आयोजन है जिसमें ढेर सारे लोग शामिल होते हैं दुल्हन की अपनी रीत होती है बहुत सारे कार्यक्रम, रश्में और धूम होती है, लेकिन जिनमें दुल्हन शामिल हो। दिलचस्प केवल उन्हें ही माना जाता है या यूं कहें कि जिक्र केवल उन्हीं का होता है। जिक्र होता भी केवल दुल्हन का ही है, दूल्हे को लड़का कहकर बुलाया जाता है और लड़के का व्यक्तित्व बहुत हद तक उसकी नौकरी से और कुछ हद तक उसके रूप से आंक लिया जाता है। लेकिन दुल्हन का रूप, उसका निखार, उसकी सज धज यहां तक की मेहंदी का रंग तक गौर से देखा जाता है, मानो कुछ और देखने समझने लायक ही न हो उस वक्त।

दोस्तों, एक दुल्हन जब किसी घर की दहलीज में प्रवेश करती है तो इसे शुरुआत मानना चाहिए अपेक्षाओं और जिम्मेदारियों की। घर परिवार के लिए दुल्हन जैसे उस दिन केंद्र में होती है वैसे ही शादी के बाद का साल सवा साल उसी के नाम रहता है। हर त्यौहार पर पहले उसकी बात होती है फिर रस्मो की। एक लड़की के लिए इतनी तवज्जो को सही ढंग से संभाल पाने की तैयारी करना दरअसल शादी के बदलाव की पहली तैयारी मानी जा सकती है। फिर रिश्तो की सार संभाल तो जिंदगी भर की बात है, लेकिन शुरुआती दौर में जब सब दुल्हन को अहमियत दे रहे हो तब दूसरों को साथ लेकर चलना और सब तरफ से मिल रही तवज्जो के सही मायने समझ कर अपने फर्ज निभाना नई दुल्हन को मिसाल बना सकता है। याद करें तो हर परिवार में ऐसी एक दो दुल्हनें तो गिनी ही जा सकती हैं ‌,जिन्होंने घर में कदम रखते ही सबका दिल जीत लिया हो... लेकिन सवाल बनता है कि ऐसी बेमिसाल दुल्हनों की 1-2 पर ही गिनती क्यों रुक जाती है। और इसका जवाब है कि दिल जीत लेना तब आसान हो जाता है जब दिल जीते जाने को तैयार हो। दुल्हन के आने से पहले ज्यों घर का हर कोना चमकाया जाता है, वही संदेश दिलों की दरों दीवारों के लिए भी है। जरा गौर करिए कि सूने मकान में दीप केवल रस्म के तौर पर रखा जाता है, उसकी पूरी रौनक के लिए कुछ तैयारी तो देवस्थल पर भी करनी होती है।


दोस्तों, विवाह महज एक रस्म नहीं.. हमारी जिंदगी का अहम पड़ाव होता है। इस पड़ाव पर ना केवल दूल्हे- दुल्हन को एक दूसरे को समझना होता है बल्कि दोनों परिवारों को भी रिश्तों की डोर मजबूती से थामनी होती है। याद रखिए शादी के बाद लड़कियों को अपना पीहर छोड़कर ससुराल में रचना बसना होता है, सो लड़कों से ज्यादा जिंदगी उनकी बदलती है। इसलिए कई तरह के बदलाव लड़कियों को अपनी दिनचर्या में करने पड़ जाते हैं, और अगर इस बदलाव को दुल्हन का दूल्हा और उसका परिवार समझ लेता है तो विवाहेत्तर संबंध मधुर बने रहते हैं। तो दोस्तों, शादी का सीजन है,  नाचिए- गाइए, सजिए-संवरिए और अपने नए रिश्तो का आनंद लीजिए... आपकी दोस्त शालू वर्मा को दीजिए इजाजत, आज के अंक में बस इतना ही, अगले अंक में नए विषय के साथ आप से फिर मुलाकात होगी, नमस्कार।।...और हां, आपको मेरा यह आलेख आपको कैसा लगा, मुझे कमेंट बॉक्स में जरूर बताऐं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Meaning of love...चल प्यार करें...

चैटिंग से सिर्फ सैटिंग होती है, प्यार नहीं। क्योंकि प्यार में फीलिंग होती है, इमोसंस होते हैं, दर्द होता है, चाहत होती है। ...और प्यार दिल से होता है !! चल प्यार करें... प्यार यानी Love  , आज इस शब्द के मायने क्या हैं? क्या प्यार का अर्थ (Meaning of love) वर्तमान में देह की चाहत, भूख, या हवस बन गया है ? अग़र नहीं, तो फिर ‘सुशांत’ जैसे नौजवान ‘शांत’ क्यों हो रहे हैं? क्यों ‘जिस्म’ में दौड़ता खून अपना रंग नहीं पहचान पा रहा है ? क्यों रिश्तों की डोर में ‘प्यार’ उलझता जा रहा है ?....अगर इन सब सवालों के जवाब आपके पास हैं तो बेशक आप इस आर्टिकल को बिना पढ़े यहीं छोड़ सकते हैं, लेकिन अग़र आपको इन सवालों का जवाब नहीं सूझ रहा है तो आपको यह आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। ...क्योंकि अखबारों में छपने वाली खबरें या कहानी ‘आपके घर की भी हो सकती है।’ चलिए अब इस Article  की शुरूआत करते हैं। 👀 केस -1. रविना की शादी को दो साल ही हुए थे, या यूं कहें कि जैसे तैसे रविना ने गुटखाबाज पति के साथ दो साल निकाल दिए थे। पति में सिवाय गुटखा खाने के कोई ऐब नहीं था। लेकिन रविना को शादी से पहले यह बात किसी ने नहीं बताई। ब्या

दिल है कि मानता नहीं !!

- Vikas Verma जी हां, दिल का मामला ही कुछ ऐसा होता है, जिस काम को करने के लिए मना किया जाता है, जब तक उसे कर ना ले, चैन पड़ता ही नहीं है। ‘कहीं लिखा हुआ है कि - दीवार के पार देखना मना हैै।’...तो हम तो देखेगें, नहीं तो दिल को सुकुन नहीं मिलेगा। कहीं लिखा है कि यहां थूकना मना है, तो हम तो थूकेगें, क्योंकि इसी में दिल की रजा़ है, इसी में मजा़ है और इसी में शान है, अभिमान है !! अब देखो ना, ‘सरकार’ कह रही है, सब कह रहे हैं। रेडियो, अखबार, टीवी सब यही कह रहे हैं, कोरोना महामारी है ! मास्क लगाओ, दूरी बनाओ ! पर हम तो ना मास्क लगाएगें, ना हाथों पर सैनेटाईजर लगाएगें और ना सोशल डिस्टेंस बनानी है ! क्यों करें, आखिर मरना तो एक दिन सबको है ! मौत लिखी होगी तो मर जाएगें, नहीं तो क्या करेगा कोरोना !! ...और फिर कोरोना यहां थोड़ी ना है, वो तो वहीं तक है। अगर कोरोना इतना ही खतरनाक होता तो डाॅक्टर, कम्पाउण्डर, पुलिस और ये प्रेस वाले ऐसे ही थोड़ी ना घूमते। इनको भी तो जान प्यारी होगी। ...और फिर जब ये ही नहीं डरते, तो मैं क्यों डरूं ? मेरा दिल इतना कमजोर थोड़ी ना है !! कोटपूतली में मिल रहे लगातार कोरोना

कोरोना योद्धाओं पर पुष्प वर्षा

न्यूज चक्र। कोरोना महामारी से इस जंग में कोटपूतली प्रशासन क्षेत्रवासियों के लिए अग्रिम पंक्ति की लड़ाई लड़ रहा है और इस जंग में पुलिस प्रशासन ने अपना हथियार बनाया है, ‘‘मेरी जिम्मेदारी’’ को। जी हां, यही वह शब्द है, जो ना केवल कोटपूतली वासियों को बल्कि पूरे जिले में लोगों को कोरोना से लड़ने के लिए प्रेरित कर रहा है।  'मेरा गावं मेरी जिम्मेदारी' या मेरा शहर मेरी जिम्मेदारी। शहर और गांवों को जिम्मेदारी का पाठ पढ़ाने वाले कोटपूतली एएसपी रामकुमार कस्वा और उनकी पूरी टीम पर जनता आज फूल बरसा रही है। तस्वीरें कोटपूतली शहर की हैं, जहां फ्लैग मार्च के दौरान आम जनता ने कोटपूतली एएसपी रामकुमार कस्वा, डीवाईएसपी दिनेश यादव, थानाधिकारी दिलीप सिंह व तहसीलदार सूर्यकांत शर्मा व पूरी टीम का फूल बरसा कर अभिनन्दन किया।  आपको बता दें कि प्रशासन के द्वारा चलाए जा रहे अभियान के फलस्वरूप उपखण्ड क्षेत्र में कोरोना संक्रमण मामलों में कमी देखी गई है। हालांकि खतरा अभी टला नहीं है। सावधान रहने व कोरोना गाईडलाइन का पालन करते रहने की जरूरत है।

कृपया फोलो/ Follow करें।

कुल पेज दृश्य